Tag Archives: tantric meditation

Tantra – Total acceptance of Cosmic Love Energy

मानव शरीर में प्रवाहित हो रही ऊर्जाओं का प्रबंधन हो सके तो मनुष्यता के बहु-आयामी विकास की एक क्रांतिकारी शुरुआत हो सकती है। तंत्र कहता है कि इस मानव शरीर में ऊर्जाओं के सात केंद्र या चक्र हैं व इन्ही सप्त-चक्रों (मूलाधार, स्वाधिष्ठान, मणिपुर, अनाहत, विशुद्ध, आज्ञा एवं सहस्रार) के बीच प्रेम-शक्ति का सतत एवं सम्यक प्रवाह ही सम्यक स्वास्थ्य है । Continue reading

Posted in Master's Silence | Tagged , , , , , , , , | 1 Comment