Category Archives: Spacecast from AD

The Gita: Srimad Bhagwadgita: श्रीमद्भगवद्गीता : Chapter 2:21

“जिस दिन यह थोड़ा सा भी स्पष्ट हुआ कि यह शरीर मैं नहीं हूँ बस उसी क्षण मृत्यु समाप्त हो जाती है, वास्तविक यात्रा प्रारम्भ होती है। उसके पहले जो करते हो सब तैयारी ही है इससे अधिक और कुछ नहीं। ” – आचार्य अज्ञातदर्शन आनंद नाथ Continue reading

Posted in Master's Silence, Spacecast from AD | Tagged , , , , , , , , , | Leave a comment

The Gita: Srimad Bhagwadgita: श्रीमद्भगवद्गीता : Chapter 2:20

“सभी ग्रन्थ, गुरु और ज्ञानी बार-बार कहते हैं “यह शरीर तुम नहीं हो” | ज़रा इसे अपने जीवन में परखें तो सही। जिस दिन यह थोड़ा सा भी स्पष्ट हुआ कि यह शरीर मैं नहीं हूँ बस उसी क्षण अपनी आध्यात्म यात्रा का श्री गणेश हुआ समझो। उसके पहले जो करते हो सब तैयारी ही है और कुछ नहीं। ” – आचार्य अज्ञातदर्शन आनंद नाथ Continue reading

Posted in Master's Silence, Spacecast from AD | Tagged , , , , , , , , , , | Leave a comment

The Gita: Srimad Bhagwadgita: श्रीमद्भगवद्गीता : Chapter 2:19

“गीता मूक रूप से यह उद्घोष करती है कि कोई यदि मेरे एक भी सारगर्भित श्लोक को अपने जीवन में परख लें तो वह पार हो जायेगा। पर कोई ही शिष्य उस जौहरी के समान होता है जो गुरु द्वारा दिए गए तत्व-ज्ञान को अपने अनुभव की कसौटी पर घिस-रगड़ कर परखता है।” – आचार्य अज्ञातदर्शन आनंद नाथ Continue reading

Posted in Master's Silence, Spacecast from AD | Tagged , , , , , , , | 2 Comments

The Gita: Srimad Bhagwadgita: श्रीमद्भगवद्गीता : Chapter 2:18

“कोई विरला ही शिष्य तत्व-ज्ञान के हेतु गुरु की शरण में होता है, वास्तव में तो वह अपने दुःख, अन्तर्द्वन्द, हताशा व जीवन में अंधकार की पीड़ा के निवारण की आकांक्षा से ही आता है। यह तो गुरु की विशेषता है जो इस शान्ति-समन्वय व सुख के खोजी को वह परम ज्ञान की अभीप्सा में परिवर्तित कर देता है। गुरु के शब्दों में वह शक्ति होनी चाहिए जो आगन्तुक पीड़ित शिष्य के अंतरतम को उद्वेलित कर सके। फिर कृष्ण तो स्वयं गुरुश्रेष्ठ हैं – अपने वचनों में शब्दों का सटीक चुनाव कृष्ण की वह कला है जो उन्हें परम-विशिष्ट बनाती है। युद्ध-भूमि में तत्त्व-ज्ञान देना कोई साधारण बात नहीं – शायद ही इतिहास में इसके पहले ऐसा कोई विवरण मिले। पर कृष्ण जैसा कुशल वक्ता गुरु-रूप में प्रकट होता है तो यह भी संभव कर देता है।” – आचार्य अज्ञातदर्शन आनंद नाथ Continue reading

Posted in Master's Silence, Spacecast from AD | Tagged , , , , , , , , , , | Leave a comment

How to Boost Immunity: The Secrets from Yoga-Tantra and Ayurveda! (3 of 3)

“Current times are teaching us tough lessons in the harshest manner probably but one thing is being felt in utmost certainty that the power to change our fate lies in our own actions. It is wakeup call for all those who ignored the most important duty towards our own self; The upkeep of our health. Tantra and Yoga offer the most effective tools to bring about positive changes in our health and our inherent power of healing. We have given out many of them. Some of the practices look overly simple but don’t be carried away by their simplicity. You would feel their effects almost instantly but it is important to practice regularly and include these in your daily routine. We believe it is never too late to begin.. so take the first step towards positive change today!” – Ma Shakti Devpriya Anand Nath Continue reading

Posted in Shakti Uvaach, Spacecast from AD | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | 2 Comments